Proof Reading कैसे करे और Proof Reading क्यों जरुरी है

Proof Reading कैसे करे और Proof Reading क्यों जरुरी है ,आगर आपका blog है और आप उसकी post को Publish करने से पहेले Proof Reading नहीं करते , तो 100% में कह सकता हु आपकी post में बहुत सी गलतिय रहती होगी… जिसके वारे में या तो आपे visitor comment करके बाटते होगे या आपको कभी पता नहीं चलती होगी की वोह गलती आपने की है , और उसकी वाजे से आपका कितना नुकसान हो रहा होता है उसकी आपको अंदाजा नहीं रहता.

अगर आपको अपने Blog ko Success करना है तो उसके लिए सबसे ज्यादा जरुरी है ,  High Quality Post जिसमे कोई भी Grammar mistake ना हो और ना ही कोई कमी हो जिसके कारण Blog की reputation ख़राब हो.

बसे तो Proof Reading सिर्फ Blog Post Publish करते time ही नहीं , बाकि दूसरी जगह भी बहुत जरुरी होती है, जेसे Email Send करते समय , Facebook पर Post करते समय या किसी को कोई message करते समय .

सबसे पहेले तो समझ लेते है आखिर ये Proof Reading होता क्या है फिर इसके importance और इसको process को जानेंगे .

Proof Reading क्या है?

जब हम हमारे blog post को पूरा लिख लेंगे , उसको last में publish करने से पहेले read करते है यह चेक करने के लिए की कही कोई mistake तो नहीं य कुछ रह तो नहीं गया add करने के लिए …. यह जो process जिसमे हम read करके पूरा comform करते है की सब कुछ ठीक से है उस्सी को proof reading कहते है.

Proof Reading करने का मकसद यह होता है , की अगर हमसे type करने में कही कोई गलती हुई है तो उसको हम ठीक कर सके..

यह तो आपको भी पता होगा , जब हम कुछ type करते है तो जाने अनजाने में गलतियाँ तो हो ही जाती है , और वोह गलत्याँ तुरंत उसी टाइम बोहत बार नहीं दिखती , जो Proof Reading में देख कर हम उसको ठीक कर सकते है ..

यह लेख पढ़े : दूसरी Website से Copy करने के फायदे और नुकसान 

Proof Reading कैसे करे :

Proof Reading करना वेसे तो कोई बड़ी बात नहीं है , पर फिर भी अगर आपको सही तरह से Proof Reading करनी है तो आपको सही Process को follow करना होगा .

सबसे पहेले तो अपने Browser में Grammarly Extension install करे , क्यूँ की इसके मदद से हमने जितनी भी grammar mistake की है वोह आसानी से दिख जाएगी और हम उनको एक click में ठीक कर पाएंगे.

आब आपको जिस भी topic कि Proof Reading करनी है, उसके बारेमे आपको ये तो पहेले जानकारी होनी चाहिए, या आप Google से उसके वारेमे थोड़ी जानकारी ले .. ताकि आपको पता हो आप जिस topic की proof reading कर रहे है..

आब next step में , अगर post आपने खुद लिखा है तो पोस्ट लिखने के बाद उसको Draft में save करले.. और draft में save करने के 3 घंटे बाद आप उसको open करके proof reading करना है..

अगर आप post को पूरा complete करके तुरंत proof reading करेंगे, तो जो गलतिया आपने खुद की है वोह आपको उसी टाइम नहीं दिखेगी .. इसके लिए आपको पोस्ट लिखने के बाद अपने mind को कम से कम 3 घंटे की gap जरुर दिजिए.. आप उतने टाइम उस tiopic से हट के कोई दूसरा काम कर सकते हो ..

आब आपको जिस भी post की Proof Read करना है, उसके लिए ready है .. Extension Install करके और अपने mind को fresh करके .

आब सबसे पहेले तो किसी ऐसी जगह बेठे , जहाँ कोई आपको disturb ना करे और आप focus से read कर पाए .. जिसके बाद आपको बिलकुल fresh mind से पोस्ट को read करना है .

अगर वो पोस्ट आपने खुद भी लिखा है फिर भी भूल जाओ की आपने क्या लिखा है , और starting से लेकर last तक एक word को read करो और समझो की पोस्ट में आपको क्या बताया जा रहा है …

ऐसा करने से जितनी भी गलती आपने उसमे की है वोह automatic आपको समझ आने लगेगी और फिर आप उनको ठीक कर सकते है..

Proofreading Main Points

1: Post का जो Main Reason है क्या वो पूरा हो रहा है ?

आपको post में check करना है , की जिस चीज के लिए य जो information देने के लिए post लिखी है वो पूरी तरह से अछे से ,मिल रही है की नहीं ..

2: Grammar Mistake तो नहीं है ?

Post लिखने में कही कोई grammar mistake या कोई link गलत type तो नहीं हुई .. अगर ऐसा हुआ है तो उसको ठीक करना है .

3: Post का Formate और Design सही है?

जो Post है, उसको read करने में और समझने में कही कोई परिशानी तो नहीं आरही ये check करना है .. और अगर paragharph बड़े बड़े है तो तो उनको छोटे करना है . इसके साथ जितनी भी important चीजे है post में उनको highlight करना है.

Post में अंदर जितनी भी Headings और Sub-Headings है वोह सही formate और systematic है के नहीं, यह भी चेक करना है .

4: कही कुछ ऐसा तो नहीं है जो add करना रह गया हो, या कुछ extra add हो गया हो?

Post में जो जानकारी दी जा रही है, उसमे कही कुछ रह तो नहीं गया.. या कुछ ऐसा तो नहीं जिसकी post में जरुरत नहीं .. अगर ऐसा कुछ ही हो तो उसको पोस्ट से add या remove करे .

Proof Reading करने के फायदे :

वेसे तो मुझे ये बताने की जरुरत नहीं , क्यूँ की Proof Reading करने से हमारी जितनी भी गलतियाँ य कमी होती है वो दूर हो जाती है , ये आब तक आप समझ ही गए होंगे .. फिर इसके बारेमे जान लीजिए.

  • कोई भी Grammar Mistake नहीं रहती .
  • कोई चीज अगर add करना रह गई है तो उसको add कर सकते है .
  • अगर कुछ एस्सा है जिसको add करने की कोई जरुरत नहीं तो उसको हटा सकते है.
  • Post लिखने के पीछे का क्या मकसद है वो पूरा हो रहा की नहीं पता चल जाता है..
  • Visitors को भी अछि जानकारी मिलती है तो वो भी blog को ज्यादा पसंद करते है.
  • Grammar Mistake नहीं रहती तो SEO में भी फायदा होता है .

Proof Reading से जुडी FAQ :

Proof Reading क्यूँ जरुरी है?

एक अछि content लिखने के लिए Proof Rading जरुरी है .

Proof Reading कोन करता है ?

जो contnet writing करते है blogger, या writter है वो proof reading करते है .

Content लिखने के कितने समय बाद Proof Reading करना चाहिए?

कमसे कम Content लिखने के 3 घंटे के बाद Proof Reading करना चाहिए.

क्या सभी Content Writter proof Reading करते है ?

जो ऑनलाइन या ऑफलाइन किसी भी तरह का content produce करते है वो अपने content की proof reading करते है.

सम्बंधित लेख :

निष्कर्ष:

आब आपको clear हो गया होगा Proof Reading क्या है और Proof Reading क्यूँ जरुरी है .. इसके साथ आब आपको ये भी पता चल गया होगा क्या सही तरीका है Proof Reading करने का..

आप मुझे comment करके जरुर बताये , आप पहेले भी proof reading करते थे के नहीं … या करते थे आपकी Proof Reading करने की क्या process थी ..

अगर आप post लिखने के तुरंत बाद Proof Reading करते थे .. तो आब से ना करे .. तो आप देखेगे बोहत सी ऐसी गलतियाँ भी आपके सामने आ जाएगी जो तुरंत नहीं आती थी…

जानकरी केसी लगी आप comment करके जरुर बताये और अगर आपका Blogging से related कोई भी question हो तो आप comment करके पुच सकते है ..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here